स्वागत

आप का हार्दिक स्वागत है , पधारने के लिए धन्यवाद!

Sunday, June 5, 2011

हरिवंश राय बच्चन ==== क्षण भर को क्यों प्यार किया था?


हरिवंश राय बच्चन  




जीवन

इलाहाबाद के कायस्थ परिवार में जन्मे बच्चन जी थे। इनको बाल्यकाल में बच्चन कहा जाता था जिसका शाब्दिक अर्थ बच्चा या संतान होता है । बाद में ये इसी नाम से मशहूर हुए । इन्होंने कायस्थ पाठशालाओं में पहले उर्दू की शिक्षा ली जो उस समय कानून की डिग्री के लिए पहला कदम माना जाता था । इसके बाद उन्होने प्रयाग विश्वविद्यालय से अंगरेजी में एम ए और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पी एच डी किया ।








१९२६ में १९ वर्ष की उम्र में उनका विवाह श्यामा बच्चन से हुआ जो इस समय १४ वर्ष की थी । लेकिन १९३६ में श्यामा की टीबी के कारण मृत्यु हो गई । पांच साल बाद १९४१ में बच्चन ने एक पंजाबन तेजी सूरी से विवाह किया जो रंगमंच तथा गायन से जुड़ी हुई थीं । इसी समय उन्होंने नीड़ का पुनर्निर्माण जैसे कविताओं की रचना की । तेजी बच्चन से अमिताभ तथा अजिताभ दो पुत्र हुए । अमिताभ बच्चन एक प्रसिद्ध अभिनेता हैं । तेजी बच्चन ने हरिवंश राय बच्चन द्वारा शेक्सपियर के अनूदित कई नाटकों में अभिनय का काम किया है ।






कार्यक्षेत्र:
 इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्यापन। बाद में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में हिन्दी विशेषज्ञ रहे। अनन्तर राज्य सभा के मनोनीत सदस्य। बच्चन जी हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय कवियों में अग्रणी हें।


निधन : १८ जनवरी २००३ को मुम्बई में।


प्रमुख कृतियां

उनकी कृति दो चट्टाने को १९६८ में हिन्दी कविता का साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मनित किया गया था। इसी वर्ष उन्हें सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार तथा एफ्रो एशियाई सम्मेलन के कमल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया। बिड़ला फाउन्डेशन ने उनकी आत्मकथा के लिये उन्हें सरस्वती सम्मान दिया था।








हरिवंश राय बच्चन को भारत सरकार द्वारा सन १९७६ में साहित्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। ये उत्तर प्रदेश से हैं।

हरिवंश राय बच्चन के संपूर्ण साहित्य की सूची

कविता संग्रह


तेरा हार (1932)

मधुशाला (1935)

मधुबाला (1936)

मधुकलश (1937)

निशा निमंत्रण (1938)

एकांत संगीत (1939)

आकुल अंतर (1943)

सतरंगिनी (1945)

हलाहल (1946)

बंगाल का काव्य (1946)

खादी के फूल (1948)

सूत की माला (1948)

मिलन यामिनी (1950)

प्रणय पत्रिका (1955)

धार के इधर उधर (1957)

आरती और अंगारे (1958)

बुद्ध और नाचघर (1958)

त्रिभंगिमा (1961)

चार खेमे चौंसठ खूंटे (1962)

दो चट्टानें (1965)

बहुत दिन बीते (1967)

कटती प्रतिमाओं की आवाज़ (1968)

उभरते प्रतिमानों के रूप (1969)

जाल समेटा (1973)




क्षण भर को क्यों प्यार किया था?

अर्द्ध रात्रि में सहसा उठकर,




पलक संपुटों में मदिरा भर,


तुमने क्यों मेरे चरणों में अपना तन-मन वार दिया था?


क्षण भर को क्यों प्यार किया था?






‘यह अधिकार कहाँ से लाया!’


और न कुछ मैं कहने पाया -


मेरे अधरों पर निज अधरों का तुमने रख भार दिया था!


क्षण भर को क्यों प्यार किया था?






वह क्षण अमर हुआ जीवन में,


आज राग जो उठता मन में -


यह प्रतिध्वनि उसकी जो उर में तुमने भर उद्गार दिया था!


क्षण भर को क्यों प्यार किया था?


Collection: Nisha-Nimantran (Published: 1938)




॥हरिवंश राय बच्चन कृत मधुशाला॥




मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला

प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला

पहले भोग लगा लूँ तेरा, फ़िर प्रसाद जग पाएगा

सबसे पहले तेरा स्वागत, करती मेरी मधुशाला॥१॥



प्यास तुझे तो, विश्व तपाकर पूणर् निकालूँगा हाला

एक पाँव से साकी बनकर नाचूँगा लेकर प्याला

जीवन की मधुता तो तेरे ऊपर कब का वार चुका

आज निछावर कर दूँगा मैं, तुझपर जग की मधुशाला॥२॥



भावुकता अंगूर लता से खींच कल्पना की हाला

कवि साकी बनकर आया है भरकर कविता का प्याला

कभी न कण- भर ख़ाली होगा लाख पिएँ, दो लाख पिएँ!

पाठकगण हैं पीनेवाले, पुस्तक मेरी मधुशाला॥३॥



मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवाला

' किस पथ से जाऊँ? ' असमंजस में है वह भोलाभाला

अलग- अलग पथ बतलाते सब, पर मैं यह बतलाता हूँ -

' राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला॥४॥



चलने ही चलने में कितना जीवन, हाय, बिता डाला!

' दूर अभी है ' , पर, कहता है हर पथ बतलानेवाला

हिम्मत है न बढ़ूँ आगे, साहस है न फ़िरूँ पीछे

किंकतर्व्यविमूढ़ मुझे कर दूर खड़ी है मधुशाला॥५॥



मुख से तू अविरत कहता जा मधु, मदिरा, मादक हाला

हाथों में अनुभव करता जा एक ललित कल्पित प्याला

ध्यान किए जा मन में सुमधुर सुखकर, सुंदर साकी का

और बढ़ा चल, पथिक, न तुझको दूर लगेगी मधुशाला॥६॥



मदिरा पीने की अभिलाषा ही बन जाए जब हाला

अधरों की आतुरता में ही जब आभासित हो प्याला

बने ध्यान ही करते- करते जब साकी साकार, सखे

रहे न हाला, प्याला साकी, तुझे मिलेगी मधुशाला॥७॥



हाथों में आने से पहले नाज़ दिखाएगा प्याला

अधरों पर आने से पहले अदा दिखाएगी हाला

बहुतेरे इनकार करेगा साकी आने से पहले

पथिक, न घबरा जाना, पहले मान करेगी मधुशाला॥८॥



लाल सुरा की धार लपट सी कह न इसे देना ज्वाला

फ़ेनिल मदिरा है, मत इसको कह देना उर का छाला

ददर् नशा है इस मदिरा का विगतस्मृतियाँ साकी हैं

पीड़ा में आनंद जिसे हो, आये मेरी मधुशाला॥९॥



लालायित अधरों से जिसने, हाय, नहीं चूमी हाला

हषर्- विकंपित कर से जिसने हा, न छुआ मधु का प्याला

हाथ पकड़ लज्जित साकी का पास नहीं जिसने खींचा

व्यर्थ सुखा डाली जीवन की उसने मधुमय मधुशाला॥१०॥



नहीं जानता कौन, मनुज आया बनकर पीनेवाला

कौन अपरिचित उस साकी से जिसने दूध पिला पाला

जीवन पाकर मानव पीकर मस्त रहे, इस कारण ही

जग में आकर सवसे पहले पाई उसने मधुशाला॥११॥



सूयर् बने मधु का विक्रेता, सिंधु बने घट, जल, हाला

बादल बन- बन आए साकी, भूमि बने मधु का प्याला

झड़ी लगाकर बरसे मदिरा रिमझिम, रिमझिम, रिमझिम कर

बेलि, विटप, तृण बन मैं पीऊँ, वर्षा ऋतु हो मधुशाला॥१२॥



अधरों पर हो कोई भी रस जिह्वा पर लगती हाला

भाजन हो कोई हाथों में लगता रक्खा है प्याला

हर सूरत साकी की सूरत में परिवतिर्त हो जाती

आँखों के आगे हो कुछ भी, आँखों में है मधुशाला॥१३॥



साकी बन आती है प्रातः जब अरुणा ऊषा बाला

तारक- मणि- मंडित चादर दे मोल धरा लेती हाला

अगणित कर- किरणों से जिसको पी, खग पागल हो गाते

प्रति प्रभात में पूणर् प्रकृति में मुखरित होती मधुशाला॥१४॥



साकी बन मुरली आई साथ लिए कर में प्याला

जिनमें वह छलकाती लाई अधर- सुधा- रस की हाला

योगिराज कर संगत उसकी नटवर नागर कहलाए

देखो कैसें- कैसों को है नाच नचाती मधुशाला॥१५॥



वादक बन मधु का विक्रेता लाया सुर- सुमधुर- हाला

रागिनियाँ बन साकी आई भरकर तारों का प्याला

विक्रेता के संकेतों पर दौड़ लयों, आलापों में

पान कराती श्रोतागण को, झंकृत वीणा मधुशाला॥१६॥



चित्रकार बन साकी आता लेकर तूली का प्याला

जिसमें भरकर पान कराता वह बहु रस- रंगी हाला

मन के चित्र जिसे पी- पीकर रंग- बिरंग हो जाते

चित्रपटी पर नाच रही है एक मनोहर मधुशाला॥१७॥



हिम श्रेणी अंगूर लता- सी फ़ैली, हिम जल है हाला

चंचल नदियाँ साकी बनकर, भरकर लहरों का प्याला

कोमल कूर- करों में अपने छलकाती निशिदिन चलतीं

पीकर खेत खड़े लहराते, भारत पावन मधुशाला॥१८॥



आज मिला अवसर, तब फ़िर क्यों मैं न छकूँ जी- भर हाला

आज मिला मौका, तब फ़िर क्यों ढाल न लूँ जी- भर प्याला

छेड़छाड़ अपने साकी से आज न क्यों जी- भर कर लूँ

एक बार ही तो मिलनी है जीवन की यह मधुशाला॥१९॥



दो दिन ही मधु मुझे पिलाकर ऊब उठी साकीबाला

भरकर अब खिसका देती है वह मेरे आगे प्याला

नाज़, अदा, अंदाजों से अब, हाय पिलाना दूर हुआ

अब तो कर देती है केवल फ़ज़र् - अदाई मधुशाला॥२०॥



छोटे- से जीवन में कितना प्यार करूँ, पी लूँ हाला

आने के ही साथ जगत में कहलाया ' जानेवाला'

स्वागत के ही साथ विदा की होती देखी तैयारी

बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन- मधुशाला॥२१॥



क्या पीना, निद्वर्न्द्व न जब तक ढाला प्यालों पर प्याला

क्या जीना, निरिंचत न जब तक साथ रहे साकीबाला

खोने का भय, हाय, लगा है पाने के सुख के पीछे

मिलने का आनंद न देती मिलकर के भी मधुशाला॥२२॥



मुझे पिलाने को लाए हो इतनी थोड़ी- सी हाला!

मुझे दिखाने को लाए हो एक यही छिछला प्याला!

इतनी पी जीने से अच्छा सागर की ले प्यास मरूँ

सिंधु- तृषा दी किसने रचकर बिंदु- बराबर मधुशाला॥२३॥



क्षीण, क्षुद्र, क्षणभंगुर, दुबर्ल मानव मिट्टी का प्याला

भरी हुई है जिसके अंदर कटु- मधु जीवन की हाला

मृत्यु बनी है निदर्य साकी अपने शत- शत कर फ़ैला

काल प्रबल है पीनेवाला, संसृति है यह मधुशाला॥२४॥



यम आयेगा साकी बनकर साथ लिए काली हाला

पी न होश में फ़िर आएगा सुरा- विसुध यह मतवाला

यह अंतिम बेहोशी, अंतिम साकी, अंतिम प्याला है

पथिक, प्यार से पीना इसको फ़िर न मिलेगी मधुशाला॥२५॥



शांत सकी हो अब तक, साकी, पीकर किस उर की ज्वाला

' और, और' की रटन लगाता जाता हर पीनेवाला

कितनी इच्छाएँ हर जानेवाला छोड़ यहाँ जाता!

कितने अरमानों की बनकर कब्र खड़ी है मधुशाला॥२६॥



जो हाला मैं चाह रहा था, वह न मिली मुझको हाला

जो प्याला मैं माँग रहा था, वह न मिला मुझको प्याला

जिस साकी के पीछे मैं था दीवाना, न मिला साकी

जिसके पीछे था मैं पागल, हा न मिली वह मधुशाला!॥२७॥



देख रहा हूँ अपने आगे कब से माणिक- सी हाला

देख रहा हूँ अपने आगे कब से कंचन का प्याला

' बस अब पाया! ' - कह- कह कब से दौड़ रहा इसके पीछे

किंतु रही है दूर क्षितिज- सी मुझसे मेरी मधुशाला॥२८॥



हाथों में आने- आने में, हाय, फ़िसल जाता प्याला

अधरों पर आने- आने में हाय, ढलक जाती हाला

दुनियावालो, आकर मेरी किस्मत की ख़ूबी देखो

रह- रह जाती है बस मुझको मिलते- मिलते मधुशाला॥२९॥



प्राप्य नही है तो, हो जाती लुप्त नहीं फ़िर क्यों हाला

प्राप्य नही है तो, हो जाता लुप्त नहीं फ़िर क्यों प्याला

दूर न इतनी हिम्मत हारूँ, पास न इतनी पा जाऊँ

व्यर्थ मुझे दौड़ाती मरु में मृगजल बनकर मधुशाला॥३०॥



मदिरालय में कब से बैठा, पी न सका अब तक हाला

यत्न सहित भरता हूँ, कोई किंतु उलट देता प्याला

मानव- बल के आगे निबर्ल भाग्य, सुना विद्यालय में

' भाग्य प्रबल, मानव निर्बल' का पाठ पढ़ाती मधुशाला॥३१॥



उस प्याले से प्यार मुझे जो दूर हथेली से प्याला

उस हाला से चाव मुझे जो दूर अधर से है हाला

प्यार नहीं पा जाने में है, पाने के अरमानों में!

पा जाता तब, हाय, न इतनी प्यारी लगती मधुशाला॥३२॥



मद, मदिरा, मधु, हाला सुन- सुन कर ही जब हूँ मतवाला

क्या गति होगी अधरों के जब नीचे आएगा प्याला

साकी, मेरे पास न आना मैं पागल हो जाऊँगा

प्यासा ही मैं मस्त, मुबारक हो तुमको ही मधुशाला॥३३॥



क्या मुझको आवश्यकता है साकी से माँगूँ हाला

क्या मुझको आवश्यकता है साकी से चाहूँ प्याला

पीकर मदिरा मस्त हुआ तो प्यार किया क्या मदिरा से!

मैं तो पागल हो उठता हूँ सुन लेता यदि मधुशाला॥३४॥



एक समय संतुष्ट बहुत था पा मैं थोड़ी- सी हाला

भोला- सा था मेरा साकी, छोटा- सा मेरा प्याला

छोटे- से इस जग की मेरे स्वगर् बलाएँ लेता था

विस्तृत जग में, हाय, गई खो मेरी नन्ही मधुशाला!॥३५॥



मैं मदिरालय के अंदर हूँ, मेरे हाथों में प्याला

प्याले में मदिरालय बिंबित करनेवाली है हाला

इस उधेड़- बुन में ही मेरा सारा जीवन बीत गया -

मैं मधुशाला के अंदर या मेरे अंदर मधुशाला!॥३६॥



किसे नहीं पीने से नाता, किसे नहीं भाता प्याला

इस जगती के मदिरालय में तरह- तरह की है हाला

अपनी- अपनी इच्छा के अनुसार सभी पी मदमाते

एक सभी का मादक साकी, एक सभी की मधुशाला॥३७॥



वह हाला, कर शांत सके जो मेरे अंतर की ज्वाला

जिसमें मैं बिंबित- प्रतिबिंबित प्रतिपल, वह मेरा प्याला

मधुशाला वह नहीं जहाँ पर मदिरा बेची जाती है

भेंट जहाँ मस्ती की मिलती मेरी तो वह मधुशाला॥३८॥



मतवालापन हाला से ले मैंने तज दी है हाला

पागलपन लेकर प्याले से, मैंने त्याग दिया प्याला

साकी से मिल, साकी में मिल अपनापन मैं भूल गया

मिल मधुशाला की मधुता में भूल गया मैं मधुशाला॥३९॥



कहाँ गया वह स्वगिर्क साकी, कहाँ गयी सुरभित हाला

कहाँ गया स्वपनिल मदिरालय, कहाँ गया स्वणिर्म प्याला!

पीनेवालों ने मदिरा का मूल्य, हाय, कब पहचाना?

फ़ूट चुका जब मधु का प्याला, टूट चुकी जब मधुशाला॥४०॥



अपने युग में सबको अनुपम ज्ञात हुई अपनी हाला

अपने युग में सबको अद्भुत ज्ञात हुआ अपना प्याला

फ़िर भी वृद्धों से जब पूछा एक यही उत्तर पाया -

अब न रहे वे पीनेवाले, अब न रही वह मधुशाला!॥४१॥



कितने ममर् जता जानी है बार- बार आकर हाला

कितने भेद बता जाता है बार- बार आकर प्याला

कितने अथोर् को संकेतों से बतला जाता साकी

फ़िर भी पीनेवालों को है एक पहेली मधुशाला॥४२॥



जितनी दिल की गहराई हो उतना गहरा है प्याला

जितनी मन की मादकता हो उतनी मादक है हाला

जितनी उर की भावुकता हो उतना सुन्दर साकी है

जितना ही जो रसिक, उसे है उतनी रसमय मधुशाला॥४३॥



मेरी हाला में सबने पाई अपनी- अपनी हाला

मेरे प्याले में सबने पाया अपना- अपना प्याला

मेरे साकी में सबने अपना प्यारा साकी देखा

जिसकी जैसी रूचि थी उसने वैसी देखी मधुशाला॥४४॥



यह मदिरालय के आँसू हैं, नहीं- नहीं मादक हाला

यह मदिरालय की आँखें हैं, नहीं- नहीं मधु का प्याला

किसी समय की सुखदस्मृति है साकी बनकर नाच रही

नहीं- नहीं कवि का हृदयांगण, यह विरहाकुल मधुशाला॥४५॥



कुचल हसरतें कितनी अपनी, हाय, बना पाया हाला

कितने अरमानों को करके ख़ाक बना पाया प्याला!

पी पीनेवाले चल देंगे, हाय, न कोई जानेगा

कितने मन के महल ढहे तब खड़ी हुई यह मधुशाला!॥४६॥



विश्व तुम्हारे विषमय जीवन में ला पाएगी हाला

यदि थोड़ी- सी भी यह मेरी मदमाती साकीबाला

शून्य तुम्हारी घड़ियाँ कुछ भी यदि यह गुंजित कर पाई

जन्म सफ़ल समझेगी जग में अपना मेरी मधुशाला॥४७॥



बड़े- बड़े नाज़ों से मैंने पाली है साकीबाला

कलित कल्पना का ही इसने सदा उठाया है प्याला

मान- दुलारों से ही रखना इस मेरी सुकुमारी को

विश्व, तुम्हारे हाथों में अब सौंप रहा हूँ मधुशाला॥४८॥


.... BIOGRAPHY ....

One of the famous Hindi Poem from Bachchan's great collection. by Dr. Harivansh Rai Bachchan, HarivanshRai Bachchan was a distinguished Hindi poet of Chhayavaad literarymovement (romantic upsurge) of early 20th century Hindi literature. Heis best known for his early work Madhushala. He is also the father ofBollywood superstar, Amitabh Bachchan.




Bachchan is best knownfor his early lyric poems Madhushala (The House of Wine), firstpublished in 1935, social unity was the running theme of his greatestpoetry collection. Madhushala brought instant fame. It whipped up aliterary frenzy when he recited it to huge audiences. It has beenchoreographed, and performed on stage. It was one the first pieces ofHindi poetry that was set to music, with its best selling cassettes andCDs having appeal across generations. It was later translated intoEnglish and many regional Indian languages including Bengali, Marathiand Malayalam. It forms part of a trilogy, along with Madhubala (1936)and Madhukalash (1937).
His works include Nisha Nimantran, KhadiKe Phool, Ekant Sangeet and Satrangini. In November, 1984, he wrote hislast poem Ek November 1984 on Indira Gandhi’s assassination. Though notofficially, he is considered in literary circles in India as the lastRashtriya Kavi (National Poet). His rendition of Madhushala wasbroadcast on All India Radio and is still available.
His public readings were attended by hundreds of people. Hisautobiography, consisting of four volumes namely Kya bhooloon kya yaadkaroon, Need ka nirmaan fir, Basere se door and Dashdwaar se sopaan tak(abridged and translated into English as In the Afternoon of Time) waschosen for the Saraswati Samman.
He published about 30 volumesof poetry. He translated Shakespeare's Macbeth and Othello, OmarKhayyam's Rubaiyat, the Bhagavad Gita and W.B. Yeats into Hindi.


Bachchan'sgreat collection, 'Madhushala', is often thought to be a great admirerof wonder solutions himself. It is wrongly believed that the creator ofone of the most famous poems on wine (Madhushala), never drank liquor.In fact, he had never drank liquor till he completed Madhushala. Hestarted drinking, although sparingly, later in his life, a fact that headmits to in his autobiography.


video

COMPLETELY COLLECTED NEWS......











1 comment:

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद said...

बच्चन जी पर अच्छी जानकारी के लिए आभार॥