स्वागत

आप का हार्दिक स्वागत है , पधारने के लिए धन्यवाद!

Saturday, May 7, 2011

अज्ञेय की कविता "सबेरे उठा तो " की तेलुगु अनुवाद

अज्ञेय की कविता  "सबेरे उठा तो " का  तेलुगु अनुवाद और उस पर आप की व्यख्या के लिए नमन- नमन-नमन...डॉ. श्रीनिवास राव जी!!!!!!!!!

अज्ञेय जन्मशती समारोह में श्रीनिवास जी की कविता सुनकर सभा में आनंद-उल्लास छा गया है ...
वेंकटेशवर जी और राधेश्याम शुक्ल जी ने उन्हें प्रशंशा की !!!!